भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उस शाह-ए-नो ख़ताँ कूँ हमारा सलाम है / वली दक्कनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उस शाह-ए-नो ख़ताँ कूँ हमारा सलाम है
जिसके नगीन-ए-लब का दो आलम में नाम है

सरशार-ए-इन्बिसात है उस अंजुमन मिनीं
जिसकूँ ख़याल तेरी अँखाँ का मदाम है

जिस सरज़मीं में तेरी भँवाँ का बयाँ करूँ
ख़ूबी हिलाल-ए-चर्ख़ वहाँ नातमाम है

जब लग है तुझ गली में रक़ीब-ए-सियाह रू
तब लग हमारे हक़ में हर इक सुब्‍ह शाम है

तनहा न बंद इश्‍क़ में तेरी हवा 'वली'
ये ज़ुल्‍फ़-ए-हल्‍क़ादार दो आलम का दाम है