भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ऊंचा रेड़ा काकर हेड़ा विच विच बोदी केसर / हरियाणवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऊंचा रेड़ा काकर हेड़ा विच विच बोदी केसर
ब्याहे ब्याहे राज करेंगे रांडा का पणमेसर
छोटे छोरे कै न जांगी, बालम याणे कै न जांगी,
देस बिराणै कै न जांगी
कासण बांटे, बासण बांटे, साझे रहा बरौला
यो भी क्यों न बांटा रांड के घर में देवर मौला
छोटे छोरे कै न जांगी...
कासण बांटे, बासण बांटे, साझे रह गई थाली
यो भी क्यों न बांटी रांड के घर में ननदल चाली
छोटे छोरे कै न जांगी...
सौड़ बांटी, सौड़िया बांटा, साझै रह गई रजाई
यो भी क्यों न बांटी रांड के रातों मरी जड़ाई
छोटे छोरे कै न जांगी...
घर बांटा घरबासा बांटा साझै रह गई मोरी
यो भी क्यों न बांटी रांड के रातों हो गई चोरी
छोटे छोरे कै न जांगी...