भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ऊंची कीकर हे मां मेरी पालना री / हरियाणवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऊंची कीकर हे मां मेरी पालना री
हां जी कोए डालें डालें पात
क्यूँ जन्मी थी हे मां मेरी धीयड़ी री
सासू रंगाई हे मां मेरी चूंदड़ी री
अल्ले तो पल्ले हे मां मेरी खोंसड़े री
हां जी कोए बीज नणद के बोल
क्यूँ जन्मी थी हे मां मेरी धीयड़ी री