भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ऊंची सी अटारी मेरी पानै फूले / हरियाणवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऊंची सी अटारी मेरी पानै फूले छाई री कटै कैसे रात
पानै फूले छाई मेरी सासू खाट बिछाई री कटै कैसे रात
सासू खाट बिछाई सासू सोवण खंदाई री कटै कैसे रात
सोवण खंदाई मैं तो दूध कटौरा लेगी री कटै कैसे रात
दूध कटोरा लेगी राजा पीठ मोड़ के सोग्या री कटै कैसे रात
पीठ मोड़ कै सोग्या मैं तो धाल खटोला सोई री कटै कैसे रात
आधी सी रात मैं तो नीचै उतर आई री कटै कैसे रात
नीचै उतर आई सासू पीसण लागई री कटै कैसे रात
पीसण खंदाई मेरा हाथ पकड़ कै खींच्या री कटै कैसे रात
हाथ पकड़ कै खींच्या मन्ने सड़सड़ मारण लाग्या री कटै कैसे रात
आज्या री सासू मन्नै तैं ए छुड़ाइयो री कटै कैसे रात
पीट पाट के कुणे गेरी सेर पेड़े ल्याया री कटै कैसे रात
सेर पेड़े ल्याया मन्नै छाई पेड़े खाए री कटै कैसे रात
ढ़ाई पेड़े खाए फेर लोटा झारी ल्याया री कटै कैसे रात
लोटा झारी ल्याया मन्नै डेढ़ चलू पीई री कटै कैसे रात
डेढ़ चलू पीई मेरै जाडा चढदा आया री कटै कैसे रात
जाडा चढदा आया मन्नै सोड़ सोडिए ओढै री कटै कैसे रात
गरमी चढगी आई मेरे पंखा ढोलण लाग्या री कटै कैसे रात
पंखा ढोलण लाग्या इतणै दिन लिकड़ आया री कटै कैसे रात
दिन लिकड़ आया री सासू के पैर दाबे री कटै कैसे रात