भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ऊठ बहू मेरी पीस ले / हरियाणवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऊठ बहू मेरी पीस ले यो दिन धोला लिकड़ आया हे।
तन्नै कै सासू पीसणा मैं काच्ची नींद जगाई हे।
सेजां पै तै बालम बोल्या सुण ले अम्मां मेरी हे।
भले घरां की ब्याह के ल्याणा इब नां चालै थारी हे।
भरी सी मैं झोट्टी ल्यूंगा छोटा बीरा ल्यूंगा पाली हे।
बलध्यां की मैं जोड़ी ल्यूंगा बाबल ल्यूंगा हाली हे।
भारी सी मैं चाक्की ल्यूंगा थम ने ल्यूं पिनहारी हे।
गोबर कूड़ा थमै करोगी गरज पड़ै रह जाइयो हे।