भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ऊपर उठने पर ही / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पहाड़ पर चढ़ने पर ही
पता चलता है कितना दबा-घुटा
और पिचका-पिचका-सा है शहर

ऊपर उठने पर ही है
खुलेपन और ताजी हवा का स्पर्श
रोम-रोम में पुलक

गैर जरूरी सामान
नहीं साथ कुछ अपने भी
पग-पग पर खुला रहे पृष्ठ
अपरिग्रह की पुस्तक के

यहां-वहां-सी घास
पत्ते त्याग रहे पेड़

मर्मर-ध्वनि से
उपजता मन में स्वर
ऊपर
और ऊपर जाना है अभी !