भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ऊभो तो हूं / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हां ऽऽऽऽ
ठीक है
आज अठै
पंछीड़ा कोनी आवै-गावै
कोनी फूटै कूंपळ कोई
ना लागै फूल-फल

पण
इयां तो ना बाढो
ठूंठ हूं तो कांई
कदैई तो
अठैई हुया करतो
स्सो कीं : फूल-फल-पत्ता
आया करता पंछीडा
गाया करता गीत

ठीक है
आज ऐकलो हूं
पण बगत री मार झेलतो
      ऊभो तो हूं !