भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

ऊमर / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऊगतै सूरज री
सोनलिया किरणां
पत्तै माथै
ठैरियोड़ो
पाणी रो टोपो

आंख्यां आगै उघड़ै
सांसां री ऊमर
पत्तै माथै ठैरियोड़ो
पाणी रो टोपो
चमकै !

तपै सूरज
बधै तावड़ो
पून रा थपेड़ा
हिलै पत्तो
अर
पाणी रो टोपो…?
………… !!