भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एकरसता / एरिष फ़्रीड / प्रतिभा उपाध्याय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

’नहीं कुछ नया नहीं है’
— वे कहते हैं —
’पुराना ऊबाऊ है’

खैर,
पहले ही एकबार
जी चुके हैं
पहले ही एकबार
प्रेम किया गया
पहले ही एकबार
कहा जा चुका
विद्रोह करने के लिए

पहले से ही आशंका की गई
एक बीमार बच्चे के लिए
पहले ही एक लड़ाई
अधिकार और स्वतन्त्रता खोने के लिए
यह पहले ही
पुरानी हो गई
मर गई

तो अब यह हमारे
लायक नहीं
जीने, प्यार करने
विद्रोह करने
आशा करने
आशंका करने के लिए
उम्र भर के लिए
मरने के लिए

यह सब अब कोई नया नहीं है
यह ऊबाऊ है
तुम लोग मृत हो

मूल जर्मन से अनुवाद : प्रतिभा उपाध्याय