भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एकली घेरी बन में आन स्याम / हरियाणवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एकली घेरी बन में आन स्याम तेने या के ठानी रे
स्याम मोहे बिन्दराबन जानो लौट के बरसाने आनो
जे मोहे होवे अबेर लरैं देवरानी जेठानी रे
एकली घेरी बन...
दान दधि को देजा मेरो कंस के खसम लगे तेरो
मारूं कंस मिटाऊं बंस ना छोडूँ निसानी रे
एकली घेरी बन...
दान मैं कभी न दूँगी रे कंस ते जाय कहूंगी रे
आज तलक या ब्रज में कोई भयो न दानी रे
एकली घेरी बन...