भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एकाकी / अबुल हसन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इतना नहीं चाहा था लड़की ने।
इतना जल्वा,
इतनी ख़ुदमुख़्तारी!
इससे कुछ कम चाहा था:
आईने के सामने
देह खोलकर बैठना सारी दोपहर;
माँ डाँटें, पिता दर्द समझें।

इतना नहीं चाहा था
अपने गिर्द
यह भीड़, ये शोरगुल,
इतना समारोह
नहीं चाहा था।

एक जल-स्रोत, कुछ प्यास,
ये चाहे थे;
एक आदमी का प्यारी कह पुकारना।

अबुल हसन की कविता : ’निःसंगता’ का अनुवाद
मूल बांग्ला से अनुवाद : शिव किशोर तिवारी