भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक अंधेरे समय में ही / कात्यायनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक अंधेरे समय में ही
हम सयाने हुए,
प्यार किया,
लड़ते रहे ताउम्र ।
हालाँकि अंधेरा फिर भी था
मगर हमारे जीने का
यही एक अन्दाज़ हो सकता था
फ़िक्र जब सिर्फ़ एक हो
कि दिल रोशन रहे

रचनाकाल : सितम्बर 1997