भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक अन्धेरी भीड़ / कात्यायनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक अन्धेरी भीड़
उसके आसपास फुँकार रही थी।
विश्वासघात किया था
उस स्त्री ने।
पूरा विश्वास किया गया था
उस स्त्री पर
जिसे तोड़कर उसने
ख़ुद को विश्वास दिलाया था
कि वह जीवित है।
अब वह निर्भीकता से खड़ी थी
मृत्यु के सामने।

रचनाकाल : अगस्त, 1996