भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक अभ्यास पुस्तिका / ग्योर्गोस सेफ़ेरिस

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उन्होंने हमसे कहा, तुम जीतोगे यदि तुम आत्मसमर्पण कर दो ।
हमने आत्मसमर्पण कर दिया और पाई धूल और राख ।
उन्होंने हमसे कहा, तुम जीतोगे यदि तुम प्रेम करो ।
हमने प्रेम किया और पाई धूल और राख ।
उन्होंने हमसे कहा, तुम जीतोगे यदि तुम अपना जीवन उत्सर्ग कर दो ।
हमने जीवन उत्सर्ग कर दिया और पाई धूल और राख ।