भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक अलग सपना / लैंग्स्टन ह्यूज़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: लैंग्स्टन ह्यूज़  » संग्रह: आँखें दुनिया की तरफ़ देखती हैं
»  एक अलग सपना

सूरज की रौशनी से आलोकित किसी इलाक़े में
दोनों हाथ फैलाकर मैं खड़ा हो जाऊँगा
और जब तक चमकता हुआ दिन रहेगा
घूम-घूम कर गोल-गोल नाचूँगा
उसकी बाद ठंडी शाम को
एक विशाल वृक्ष के नीचे
आराम करूँगा
तभी धीमी गति से
मेरे पास आएगी काली रात
मेरी ही तरह काला है जिसका रंग
यही तो मेरा सपना है

सूरज के सामने
दोनों हाथ फैलाकर खड़ा होने का
जब तक कि दिन डूब नहीं जाता
घूम-घूमकर गोल-गोल नाचने का
एक मलिन शाम को आराम करना
एक विशाल पर सीधा-सादा पेड़
रात आ रही है आहिस्ता क़दम
मेरी ही तरह काली रात


मूल अंग्रेज़ी से अनुवाद : राम कृष्ण पाण्डेय