भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

एक ई ओळी / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

फूल सगै बतळावतै भंवरै नै देख
सोध्यो म्हैं अरथ एक

डाळ माथै
गटर गूं-गटर गूं सुणी
पुख्ता हुयो अरथ सागी

अबै म्हारै सामैं
चांद है…… बादळ है
चूड़ियां री खणक है
      काजळ है
टीकी है

आ रुत
रूड़ी-रूपाळी-नीकी है

सुगनां सूं ई बकार देखो भलांई
उथळो सागी-
अबार नईं
अठै नईं
इंयां नईं
बिंयां नईं…

जाणै रिकार्ड माथै
अटक्योड़ी हुवै सुई
अर बाजै एक ई ओळी
अबार नईं…
अठै नईं…
इंयां नईं…
बिंयां नईं…