भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

एक उकताया / अयोध्या सिंह उपाध्याय ‘हरिऔध’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 
क्या कहें कुछ कहा नहीं जाता।
बिन कहे भी रहा नहीं जाता।1।

बे तरह दुख रहा कलेजा है।
दर्द अब तो सहा नहीं जाता।2।

इन झड़ी बाँधा कर बरस जाते।
आँसुओं में बहा नहीं जाता।3।

चोट खा खा मसक मसक करके।
भीत जैसा ढहा नहीं जाता।4।

थक गया, हाथ कुछ नहीं आया।
मुझ से पानी महा नहीं जाता।5।