भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक उपन्यास के बारे में / सर्जिओ इन्फेंते / रति सक्सेना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हर फैलाव में रात और काली है
अग्नि के पर्याय
नहीं लगाते आग,
नायक की भौं का सितारा
बमुश्किल दिखाता है
अनिश्चित रास्ता।

एक खोये शहर की तयशुदा गलियों की याद
खींचती है मुझे,
भू-ग्रस्त दौड़ता हूँ,
रकाब के जोड़े के बारे में सोचता
भ्रमित मैं
फिर से लिखता हूँ पतवार,
उजला घास का मैदान
और दूर की एक पल्ली।

हर कथा का निश्चित अंत देखते
भग्न टखने को ताकते गूँगे की तरह
देर हो चुकी है तोड़ने में
मायावी आवाजों का जादू,
या भ्रम और पीड़ा में निमग्न
अपनी आवाज की चैलियाँ।

मै छलाँग लगता हूँ
और बच जाता हूँ डूबने से
अपने दाँतों में दबाये
एक कविता।