भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक और ग्रीष्म / सर्जिओ इन्फेंते / रति सक्सेना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घंटों लंबी है
ट्रेन से समुद्र की यात्रा।

घर के आगे लगे
पाइन के पेड़ दे रहे हैं साथ।

सागर गर्जन की
वे बखूबी करते हैं नकल।

पेड़ों की शाखाओं
और नुकीली पत्तियों से उलझती
एंडीज पर्वत की हवा से
एक सरसराहट में
बदल जाता है समुद्र,
यादों में है
पानी में प्रतिबिंबित सूर्यास्त,
याददाश्त में हैं
समुद्र फेन में निमग्न
आगे बढ़ते हुए पैर।