भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक कर में वीणा लिये, एक कर में करताल / नाथ कवि

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शारदा स्तुति

एक कर में वीणा लिये, एक कर में करताल।
एक कर में पुस्तक लसै, एक कर मुक्ता माल॥
एक कर मुक्ता माल, मकुट की शोभा न्यारी।
गल मणियन के हार, हंस वाहन शुभ कारी॥
कविता में हो सूर सरस, तुलसी सी गाथा।
यह माँगत बरदान, मातु शारद कवि ‘नाथा’॥