भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक चांद : तीन चितराम / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गाभा लाल
टीकी लाल
मांग में सिंदूर लाल
रंगां में उछाळा मारै रगत लाल
पम्पोळ बींरा गाल
बो बोल्यो-
भळै नैड़ी आव
बाथां रै बादळां में
लुकावूं थनै
ओ म्हारा चांद !

चांद सागी है
गोळ-गोळ…… पीळो-पीळो……

इन्नै दौड़ियो
बिन्नै दौड़ियो
लीर-लीर गाभा
तपती सड़क
पगां उबराणो
दिन भर घींस्यो गाडो
लुक्खा-सूखा टुक्कड़ चाबतो
आभै कानी कर आंगळी
बो बोल्यो-
सिक्योड़ो फलको तो
बो लटकै बठै !

चांद सागी है
गोळ-गोळ…… पीळो-पीळो……

दवा री शीशियां खाली
हींडिया करतो जिण में
तोतो सुर
वो हींडो खाली
एक्कानी पड़िया रोवै रमतिया
आ देख
चिंता करै बाप-
औ चांद ई खूटैला
जिंयां खूटग्यो
पीळियै में छोरो !
चांद सागी है
गोळ-गोळ…… पीळो-पीळो……