भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक चिड़ो एक चिड़ी देखो / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक चिड़ो एक चिड़ी देखो
मन में हरख हर घड़ी देखो

मन हुवै मत्तै ई बेकाबू
रुत हुई जादू छड़ी देखो

शरद पून्यूं अर तूं सागै
लागी अमी री झड़ी देखो

आज तो थे मुळक बतळावो
रोवण नै उमर पड़ी देखो

आवो बांचो ढाई आखर
मन-पोथी खुली पड़ी देखो