भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

एक चितराम औ ई / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कांई ठा कांईं जची म्हारै
डायरी खोल राख्या सामै
अंतस रा ऐ आखर अमोला

सोच्यो-
राजी हुवैली तूं
काळजै री कोर ई तो ही
काळजै में चौफेर

सुण परी
मुळकी तो सरी
पण उठती बोली
हाथां रै सागी लटकै सागै-
कीं काम तो आथ कोनी
बैठा-बैठा बाई गट्टी बातां
चुगबो करो !

चाल रे जीवड़ा !
बंद कर डायरी
बां चितरामां भेळौ
एक चितराम ओ ई सही !