भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक तऽ हम बारी कुमारी / मैथिली लोकगीत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैथिली लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

एक तऽ हम बारी कुमारी, दोसरमे शिव के दुलारी
कि आहे सखिया, कोने अवगुनमा शिव मोरा त्यागल रे की
फुल लोढ़य गेलहुँ बाड़ी, सड़िया अँटकि गेल डारी
कि आहे सखिया बिनु शिव सड़िया के उतारत रे की
जाहि बाटे शिव गेला, दुभिया जनमि गेल
कि आहे सखिया तइयो ने घुरि शिव गृह आयल रे की
के तोरा जन्म देल, के तोरा कर्म देल
कि आहे सखिया के तोर पाती-पाती लीखल रे की
माय-बाप जन्म देल, शिव मोरा कर्म देल
कि आहे सखिया, भोला मोर पाती-पाती लीखल रे की