भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक दूसरे को / मनीष मूंदड़ा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चलो कुछ लिखें
कुछ सोचे
चलो आज फिर एक दूसरे को खोजें
कुछ समझें
कुछ समझाएँ
चलो आज फिर एक दूसरे को मनाएँ
कुछ देखें
कुछ दिखाएँ
चलो आज फिर एक दूसरे को समझ आएँ
कुछ तुम बोलो
 कुछ हम बोले
चलो आज एक दूसरे को सुने सुनाएँ