भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक नन्ही किरण ! / अशोक कुमार शुक्ला

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हौसलों के सूरज से निकलकर
हताशा की घटाओं से छनकर
दिल के बागीचे तक
आज फिर आ पहुंची है
एक नन्ही किरण !
इसकी गर्माहट ने
पुनः ला दी है
मुरझायें हुये पौधों में
जीवन की चमक!
उम्मीदों की क्षितिज पर
फिर से उभर आया है
एक नया इंद्रधनुष !
खिल उठी हैं अनेक कलियां!!
हमारे और
आप के बागीचे में!!

(संदर्भ: माननीय श्री अरविन्द केजरीवाल का मुख्यमंत्री दिल्ली सरकार के रूप में शपथ ग्रहण समारोह)