भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक नया कल / मनीष मूंदड़ा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम हो आज मेरे साथ
कल का पता नहीं
वैसे आने वाले कल का पता होता ही किसे है
लोग तो बीते कल मैं ही अपनी जि़ंदगी जी लेते हैं
पर मैं
तुम्हारे साथ मेरे आज में जीना चाहता हूँ
कल की चिंता ना मुझे थी
और अब जो तुम मेरे साथ हो तो
मुझे आज की भी फि़क्र नहीं
तुम और मैं शायद आज के लिए ही बने हैं
आओ इस आज की जि़ंदगी को जि़ंदादिली से जी लें
एक नए कल को जन्म देने के लिए