भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

एक प्रतीकहीन कविता / लीलाधर जगूड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सुंदर है
झरने का अधःपतन
गूँज भरा
वेग भरा
ऊँची लहरोंवाला
नदी का नीचा सिर
सुंदर है

सुंदर है
आसमान के सामने
पहाड़ की अकड़
सूरज के सामने
जंगल के मन का
घना अँधेरा

सुंदर है
दूर तक गुँथी हुई
झाड़ियों का अनुत्‍थान

सुंदर है
पूरे दृश्‍य के बाद की
अभी तक अदृश्‍य झलक।