भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक बार फिर/ सजीव सारथी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वापिस मुडा हूँ एक बार फिर,
अपने कूचे की तरफ़,
वो गली जो मेरे घर तक जाती थी,
फिर से मिल गयी है,
वो राह जो मेरे दर तक पहुँचती थी,
साफ़ दिखाई पड़ रही है,

एक बार फिर,
छूकर महसूस करने दो मुझे,
मिट्टी से बनी इन दीवारों को,
बरसते आबशारों को,
चंचल बयारों को,
खोल दो इन दरीचों को,
ताकि एक बार फिर,
गुलाबी धूप,
छू सके मुझे आकर,
इन सब्ज झरोखों से.....