भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक मिस्ड काल / अशोक कुमार शुक्ला

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मोबाइल पर
आज फिर
दिखलायी दी है
एक मिस्ड काल।

जैसे
राख के ढेर में
बच रही कोई चिंगारी
छिटक कर
आ गिरी हो
किसी सूखे पत्ते पर।