भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक मुल्क / महमूद दरवेश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक मुल्क पौ फटने के कगार पर,
कुछ ही पलों में
ग्रह सो जाएँगे शायरी की जुबान में ।
कुछ ही पलों में हम इस लम्बे रास्ते को विदा कहेंगे
और पूछेंगे : कहाँ से हम शुरूआत करें ?
कुछ ही पलों में
हम अपने ख़ूबसूरत पर्वत नार्सीसस को सावधान करेंगे
अपने ही प्रतिबिम्ब से उसके मोह के खिलाफ; तुम अब और
शायरी के काबिल नहीं, इसलिए देखो
राहगीर की ओर