भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक वजूद / सूर्यदेव सिबोरत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मिले अचानक
दो अनजाने
चलते रहे हैं बरसों-
एक बूंद आंसू
एक कण हंसी
कभी आज
कभी कल
कभी परसों ।

बनकर
मेरे वजूद का वजूद
दिया है तुमने
जीने का मकसद
मैं तो कुछ भी नहीं ।

सूनेपन में
तुम्हारे कदमों की आहट
मेरे दिल की
धड़कनें हैं ।

कल
जो भीड़ थी
आज
जो भीड़ है
और
कल
जो भीड़ होगी
मेरी पलकें
उंगलियाँ बनकर
हर आदमी को
खींच खींचकर

हटा हटा कर
तम्हें
खोजती रहेंगी
युग युगान्तर तक ।