भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक व्याधि गज काम बस / भीषनजी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक व्याधि गज काम बस, परयो खाडे सिर कूटिहै।
पंच व्याधि बस 'भीखजन सो कैसे करि छूटिहै॥
नैनहु नीरु बहै तनु षीना, भये केस दुधवानी।
रुँधा कंठु सबदु नहीं उचरै, अब किया करहि परानी॥
राम राइ होहि वैद बनवारी।
अपने संतह लेहु उबारी॥