भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

एक शहर को छोड़ते हुए-3 / उदय प्रकाश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक दिन हम
नर्मदा में नहाएँगे
दोनों जन साथ-साथ ।

नर्मदा अमरकंटक से निकलती है,
हम सोचेंगे और
न भी निकलती तो भी
साथ-साथ नहाते हम, तो अच्छा लगता ।

फिर हम एक सूखे पत्थर पर
खड़े हो जाएँगे... धूप तापेंगे ।

फिर खूब अच्छे कपड़े पहनेंगे
ख़ूब अच्छा खाना खाएँगे
ख़ूब अच्छी-अच्छी बातें करेंगे
एक ख़ूब अच्छे घर में बस जाएँगे ।

हमें ख़ूब अच्छी नींद आया करेगी
रातों में और
हमारा ख़ूब-ख़ूब अच्छा-सा जीवन होगा ।

ताप्ती, देखना
क्या मुझे बहुत विकट हँसी आ रही है ?