भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक सूखी नदी / धीरेन्द्र अस्थाना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नदी
जो कभी
भरी थी यौवन से,
सदियों की
सभ्यताएं
करती थीं
अठखेलियाँ
इसकी उर्मियों में;
अब
सूख चुकी है
पूरी तरह
अवशेषित और
लुप्त हो गयी है!

हाँ,
इसकी तलहटी में बसे
गाँवों को
बाढ़ का खतरा
नहीं है अब;
"कर्मांशा"
हार चुकी है!

लेकिन
इसके दोनों ओर
हरे जंगल
और वन्य जीव
भी लुप्त हो गए हैं;
समय के साथ
अब किसी
पूर्णिमा या
अमावस पर
नहीं लगता
जमावड़ा
दूर-दूर से
आये हुए
जन सैलाबों का;

लेकिन
इसके दोनों ओर
हरे जंगल
और वन्य जीव
भी लुप्त हो गए हैं;
समय के साथ
अब किसी
पूर्णिमा या
अमावस पर
नहीं लगता
जमावड़ा
दूर-दूर से
आये हुए
जन सैलाबों का;
लेकिन
इसके दोनों ओर
हरे जंगल
और वन्य जीव
भी लुप्त हो गए हैं;
समय के साथ
अब किसी
पूर्णिमा या
अमावस पर
नहीं लगता
जमावड़ा
दूर-दूर से
आये हुए
जन सैलाबों का;

नदी के सूखने पर
नष्ट हो जाती हैं
सदियों की संस्कृति
और सूख जाया करती हैं
सभ्यताएं!