भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक हाथ / आन्ना कमिएन्स्का

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: आन्ना कमिएन्स्का  » एक हाथ

 
इस चीज़ को एक हाथ कहा जाता है ।
आँखों के नज़दीक लाने पर यह चीज़
संसार को ढँक देती है ।
सूरज, एक घोड़े, एक घर,
एक बादल, एक मक्खी से बड़ी यह चीज़ ?
उँगलियों से बनी यह चीज़ ।
सुन्दर गुलाबी सतह वाली यह चीज़ ।
यह खुद मैं हूँ ।
यह दबोचती है, थमती है, खींचती है, फाड़ती है
और इससे होने वाले कामों की गिनती नहीं हो सकती ।
यह सिर्फ़ सुन्दर नहीं है ।
यह सेनाओं का नेतृत्व करती है,
मिट्टी पर मेहनत करती है,
हत्या करती है एक कुल्हाड़ी से,
फैलाती है स्त्रियों की जाँघें,
और इससे होने वाले कामों की गिनती नहीं हो सकती ।
इसकी पाँच उँगलियाँ -- पाँच अपराध ।
इसकी पाँच उँगलियाँ - एक ख़ूबी ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : अशोक कुमार पाण्डे