भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक ही तो / जय गोस्वामी / रामशंकर द्विवेदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम इस बरामदे के किनारे
खड़ी होकर साँस लो

एक ही बरामदे में
मैं भी तो साँस लेता हूँ
एक ही वातास तो
दोनों लोगों की छाती भर देती है

एक ही तो, एक ही तो,
बताओ —

तो फिर क्यों दो जने
अलग-अलग रहेंगे
लोगों के भय से डरकर ?

मूल बाँगला भाषा से अनुवाद : रामशंकर द्विवेदी