भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एण्ड्रोमीडा / ग्योर्गोस सेफ़ेरिस

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरी छाती में ज़ख़्म फिर से खुलता है
जब सितारे बुझते हैं और मेरी देह के साथ सँयुक्त हो जाते हैं
जब आदमियों की पदचाप के बाद सन्नाटा छा जाता है ।

ये पत्थर जो बरसों के दरम्यान डूबते रहे हैं, कितनी दूर तक
                                     ये मुझे अपने साथ खींचेंगे ?
समुद्र, समुद्र, कौन है वह जो इसे ख़ाली कर सुखा सकता है ?
मैं हर सुबह देखती हूँ हाथ बाज और गिद्ध को इशारे से बुलाते हुए,
मैं चट्टान से बँधी हूँ पीड़ा ने जिसे मेरा अपना बना दिया है,
मैं वृक्षों को देखती हूँ जो मृतक की काली शान्ति में साँस लेते हैं
और तब मुस्कानों को, मूर्त्तियों की, निस्पन्द ।