भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ए परदेसी चाल्या जाइये / हरियाणवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ए परदेसी चाल्या जाइये, घर बूझे सै मारे नै
ए मेरी मां बाम्हण कै जारी बाबल नम्बरदारी मैं
ए मेरी भाभी माण्डे पोवै, दाल रघैं म्हारे हारे मैं
ए मेरा बीरा ढोल जिमावै, जले की नजर चुबारे मैं
ए मेरी माता लत्ते दिखावै, बैली करदी बाड़ै मैं