भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ए बेबे गोरे गोरे देवर जेठ / हरियाणवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ए बेबे गोरे गोरे देवर जेठ
काले काले तेरे भातिआं जी
ए बेबे गिरदां आले देवर जेठ
ओछे ओछे तेरे भातिआं जी
ए बेबे पंठा आले देवर जेठ
गंजे गंजे तेरे भातिआं जी