भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ए भारत के वीर सिपाही / दयाचंद मायना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ए भारत के वीर सिपाही बंगाले म्हं जा जा जा
मर मिटना है देश की खातिर हंसमुख गोली खा खा खा...टेक

चाले पाछै कदम मर्द का उल्टा नहीं फरैं सै
हिया और कटारी रण म्हं पूरी मदद करैं सै
कटण मरण तै स्याल डरै सैं शेर भरै सैं चा चा चा...

होया जवन लड़ण की खातिर पलटन म्हं नाम दिया सै
हाथ दिखादे मनै तनै माता का दूध पिया सै
जिस दिन खातिर जन्म लिया सै वो दिन पोंहचा आ आ आ...

शूर बहादुर मर्द बीर की छाती तना करै
शेर दहाड़ै रण म्हं दिल गादड़ का छना करै
बार-बार ना जणा करै सुत जनने आली माँ माँ माँ...

सतगुरु मुंशी राम ग्यान की नहाले गंग दयाचन्द
खेलै जबान खून की होली बरसै रंग दयाचन्द
सन 71 का जंग दयाचन्द हांगा लाकै गा गा गा...