भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ऐसा काला तूं बना रे / हरियाणवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऐसा काला तूं बना रे...... जैसी उड़द की दाल
दाल होय तो धोय लूं तेरा रंग न धोया जाय रे