भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ऐसा समय / हरीश करमचंदाणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यह कैसा समय हैं
बड़े लड़ रहे हैं
छोटी छोटी बातों पर
बच्चों की तरह


बच्चे गुमसुम उदास
और चिंतातुर
बड़ों की तरह
यह कैसा समय हैं