भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

ऐसी सुविधाओं से घिर गए लोग / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऐसी सुविधाओं से घिर गए लोग।
अपने ही भीतर तक मर गये लोग!

देखते चलते पलड़ा किधर भारी,
कभी इधर तो कभी उधर गये लोग!

कैसे सीधे पहुंचे कोई उन तक,
क़दम-क़दम पर पत्थर धर गये लोग।

सदा साथ रहने के दावे करते,
आओ देखें, आज किधर गये लोग।

उठती लहरें रोके से न रूकेंगी,
हर दौरे-खौफ़ से गुजर गये लोग।