भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

ऐसे में / विजय गौड़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घर के भीतर
सीलन भरी दीवारों पर,
जहाँ सब कुछ चट कर जाने को
तेज़ी से दौड़ रही है दीमक
क्या, बचाई जा सकती हैं वहाँ क़िताबें ?

बचाया जा सकता है
लकड़ी का सामान,
संदूक ?

वहाँ नहीं बची रह सकती
दो घड़ी सुस्ताने के लिए
लगाई गई चारपाई

ऐसे में तुम
वर्षों से सूखे तैल चित्र को
कैसे बचा पाओगे ?