भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ऐसे वैसे देस में लोभाना मियाँ बँदरा / मगही

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मगही लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

ऐसे वैसे देस में लोभाना[1] मियाँ बँदरा[2]
दान माँगे दुलहा, दहेज माँगे दुलहा।
छोटकी साली दहेज माँगे दुलहा॥1॥
ऐसे वैसे देस में लोभाना मियाँ बँदरा।
दान माँगे दुलहा, दहेज माँगे दुलहा।
छोटका साला, दहेज माँगे दुलहा॥2॥
कुटनिया[3] के देस में लोभाना मियाँ बँदरा।
छिनलिया[4] के देस में लोभाना मियाँ बँदरा॥3॥

शब्दार्थ
  1. लुभा गया
  2. प्यारे दुलहा
  3. कुट्टनी, किसी भोली-भाली स्त्री को बहका-फुसलाकर पर-पुरुष से मिलाने वाली
  4. छिनाल औरत