भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ऐ इश्क़ कहीं ले चल / 'अख्तर' शीरानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऐ इश्क़ कहीं ले चल, इस पाप की बस्ती से,
नफ़रत-गहे-आलम[1] से, लानत-गहे-हस्ती[2] से,
इन नफ़्स-परस्तों[3] से, इस नफ़्स-परस्ती से,
दूर और कहीं ले चल,
ऐ इश्क़ कहीं ले चल !

हम प्रेम-पुजारी हैं तू प्रेम-कन्हैया है !
तू प्रेम-कन्हैया है, यह प्रेम की नय्या है,
यह प्रेम की नय्या है, तू इसका खिवैया है,
कुछ फ़िक्र नहीं, ले चल,
ऐ इश्क़ कहीं ले चल !

बे-रहम ज़माने को अब छोड़ रहे हैं हम,
बे-दर्द अ़ज़ीज़ों[4] से मुँह मोड़ रहे हैं हम,
जो आस थी वो भी अब तोड़ रहे हैं हम,
बस ताब[5] नहीं, ले चल,
ऐ इश्क़ कहीं ले चल !

शब्दार्थ
  1. घृणा से भरी हुई दुनिया
  2. लानत भरा संसार
  3. कामासक्तों
  4. प्रिय बन्धुओं
  5. सहनशक्ति