भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ऐ काच रा घर भाठा ना फेंको / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऐ काच रा घर भाठा ना फेंको
म्हांनै लागै डर भाठा ना फेंको

थारै-म्हारै सुपनां रो कर सौदौ
जुलूस गयो गुजर भाठा ना फेंको

बातां सूं ई तोड़ो फूल गगन रा
ठारो थे कीं कर भाठा ना फेंको
 
माटी री ताकत ओळखो तो सरी
रतन बणावै नर भाठा ना फेंको

सागी ठौड़ लागण री जेज है बस
आखर करै असर भाठा ना फेंको