भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ऐ कि हर दिल पर है अज़मत नक़्श तेरे नाम की / मेला राम 'वफ़ा'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऐ कि हर दिल पर है अज़मत नक़्श तेरे नाम की
इब्तिदा करते हैं तेरे नाम से हर काम की।

तेरे फैज़े-आ'म से मामूर हैं कोन-ओ-मकां
धूम है कोन-ओ-मकां में तेरे फैज़े-आ'म की।

ये है क्या मुश्किल कि तेरी इक निगाहे-मेहर से
बे असर हो जाए गर्दिश चरख़े-नीली फ़ाम की।

ये भी है इक मोजिज़ा तेरी मुक़द्दस याद का
हो गई काफ़ूर मायूसी दिले-नाकाम की।