भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ऐ तो म्है ई हां / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गूंगा हुया हो कांई
इयां कियां मरण देवां भूख सूं
रेतराम-खेतराम नै
अंधारै में रैवण कोनी देवां
धूड़ियै-फूसियै नै
नित आगै बधती दुनिया में
लारै कोनी रैवन देवां
धिसियै-मघलै नै
आखरां री अलख जगाणी है
गांव-गांव
ढाणी-ढाणी
घर-घर
कुरड़ै अर झींटियै रै हाथां में देणो है
पाटी-बतरणो
खुंवै-सूं-खुंवो जोड़’र चालण रो
हक दिरावांला
रामी-धापी-कमली-विमला नै ।

ठीक है
बगत माड़ो है
म्हैं ई जाणा
भाई नै भाई कोनी चावै
बकार’र देख लो सैण-सूं-सैण नै
जे बाढ़ी आंगळी माथै ई मूतै तो…

ऐ तो म्हैं ई हां
कै थांरै खातर
अष्ठपौर सोच करां
नीं जणा
आज रै जमानै में
कागद रै टुकड़ा माथै
रबड़ री मोहर रै एक ठप्पै साटै
इण ढाळै कोई सोच करिया करै
अरे भाई !
ऐ तो म्हैं ई हां
जिका थारै खातर दिन-रात……!